अगर आपके शरीर के कई हिस्सो में दर्द हो रहा है जैसे सिर दर्द, पेट दर्द और कमर दर्द और इस पर दवाओं का भी असर नहीं हो रहा है तो हो सकता है कि ये लक्षण डिप्रेशन का संकेत दे रहे हों।

समय-समय पर निराशा महसूस करना व्यक्ति के जीवन में स्वभाविक है पर अगर आपको इसके साथ अकेला और बेसहारा महसूस होने लगे तो यह डिप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं। डिप्रेशन आपके खुशनुमा जीवन को मुश्किल बना देता है। डिप्रेशन के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। मगर इसके कुछ आम कारण और लक्षण हैं जिससे इसको पहचाना जा सकता है। दुनियाभर में 30 करोड़ लोग डिप्रेशन से ग्रसित होते हैं लेकिन आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है। अब बहुत सी चीजें ऐसी हैं जिससे आप डिप्रेशन से बाहर आने में मदद ले सकते हैं। तो आइए आपको डिप्रेशन के लक्षणों के बारे में बताते हैं।

डिप्रेशन के लक्षण निम्नलिखित हैं:
1- थकावट होना:जब इंसान उदास होता है तो उसे कुछ करना अच्छा नहीं लगता है। साथ ही उसे कुछ करे बिना ही थकावट होने लगती है और अपना शरीर भारी सा महसूस होने लगता है।

2. नींद में बदलाव:डिप्रेशन भी कई तरह का होता है। इसमें कई लोगों को बहुत नींद आने लगती है तो कुछ लोगों को नींद ही नही आती हैं। कुछ लोगों में रात को आधी नींद में चलने के लक्षण भी दिखाई देते हैं।

3. दैनिक गतिविधियों में बदलाव:डिप्रेशन में आप अपनी रोज की एक्टिविटी के बारे में भूल जाते हैं। रोज के काम जैसे आपकी सोशल एक्टिविटी, हॉबी आदि। आप अपने खुशी महसूस करने की क्षमता भी खो देते हैं।

4. वजन में बदलाव:डिप्रेशन में आपके वजन में बदलाव होता है। कुछ लोगों का वजन बढ़ जाता है तो कुछ लोगों का वजन घट जाता है। डिप्रेशन में इंसान के वजन में 5% का बदलाव हर महीने होता है।

5. चिड़चिड़ापन:स्वभाव में अगर चिड़चिड़ापन रहने लगे और यह आपकी आदत बन जाए तो इसके लिए आपको गम्भीरता बरतनी पड़ेगी क्योंकि यह डिप्रेशन का एक बहुत बड़ा लक्षण है। इसके लिए आपको डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति से लड़ने की बजाए उससे शांति से बात करनी चाहिए और उसे समझना चाहिए।

6. क्रोध:
common symptoms of depressionडिप्रेशन में आप बेचैन, उत्तेजित और यहां तक की हिंसक भी हो जाते हैं। आपके सहन करने की क्षमता कम हो जाती है और आपको बहुत जल्दी और ज्यादा गुस्सा आने लगता है।

7. अस्पष्टीकृत दर्द:तनाव के कारण आपके शरीर के कई हिस्सो में दर्द शुरू हो जाता है। जैसे सिर दर्द, पेट दर्द और कमर दर्द। जिन पर दवाओं का भी असर नहीं होता है।

8. नकारात्मक विचार:डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति को सबसे ज्यादा नकारात्मक विचार आते हैं। जिसमें वह दूसरो को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ खुद को भी नुकसान पहुंचाने की सोचते हैं। यह विचार सपने में भी उनका पीछा नहीं छोड़ते हैं।

9. डर:डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति के मन में अगर किसी तरह का डर बैठ जाता है तो वह उसे ही सच मान लेता है और उसी के बारे में सोचने लगता है। जैसे- अंधेरे, बंद कमरे या किसी व्यक्ति का डर।

10. एकाग्रता में कमी:डिप्रेशन में आपके दिमाग में कई तरह की बातें चलती रहती हैं, जिसकी वजह से आप अपने काम में ध्यान नहीं दे पाते हैं और महत्वपूर्ण कामों से आपका ध्यान हटने लगता है। दूसरी बातों में आपका ध्यान केंद्रित होने लगता है। जिसकी वजह से आप कई बातें भूलने भी लगते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here